महिला दिनानिमित्त ‘वैद्यकिय साहित्य सेवा’!